spot_img
Sunday, July 14, 2024
More
    spot_img
    HomeBrandspotहरिशंकर दुबे: युवा नेता और सामाजिक कार्यकर्ता का उदाहारण

    हरिशंकर दुबे: युवा नेता और सामाजिक कार्यकर्ता का उदाहारण

    -

    हरिशंकर दुबे: युवा नेता और सामाजिक कार्यकर्ता का उदाहारण

    प्रतापगढ़, 2 फरवरी 2024 – हरिशंकर दुबे, जिनका जन्म 8 मार्च 1983 को हुआ था, भारतीय राजनीतिक मंच पर एक चमकते हुए नेता के रूप में उभर रहे हैं। प्रतापगढ़ के निवासी दुबे ने अपने पूरे करियर को समाज की सेवा और सामाजिक विकास में योगदान देने में समर्पित किया है।

    उनके नौजवान सक्रियता और छात्र राजनीतिक संगठनों में भागीदारी के लिए उनकी शुरुआती वर्षों को युवा मोर्चा और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के प्रमुख सदस्य के रूप में चिह्नित किया गया।

    दुबे ने अपनी ज़िन्दगी में कई महत्वपूर्ण सामाजिक कार्यों का हिस्सा बनाया है, जैसे कि प्रतापगढ़-जौनपुर सीमा पर एक पुल बनाना और COVID के दौरान जरूरतमंद लोगों को भोजन प्रदान करना। उन्होंने खेल प्रोत्साहन के लिए विभिन्न खेल कार्यक्रमों का आयोजन किया और सामाजिक कल्याण के लिए कई अन्य कार्यों का भी संचालन किया है।

    उन्हें लोकसभा के सदस्य के लिए एक संभावित उम्मीदवार के रूप में देखा जा रहा है, और वह भारतीय जनता पार्टी (भा.ज.पा.) से आने वाले चुनावों में एक अवसर प्राप्त करने की उम्मीद कर रहे हैं।

    हरिशंकर दुबे के दादाजी स्वतंत्रता सेनानी थे और भारत के स्वतंत्रता के लिए कई बार जेल गए थे। उनके पिताजी भी नागरिक सुरक्षा में शामिल हैं, इससे यह साबित होता है कि उनका परिवार दशकों से समाज और लोगों की सेवा में जुटा हुआ है।

    हरिशंकर दुबे ने अपने समर्पण और सेवाभाव से सामाजिक क्षेत्र में अपनी पहचान बना ली है और उनकी सकारात्मक क्रियाएं आगे बढ़ने के लिए उपयुक्त बनाती हैं। वह युवा पीढ़ी को प्रोत्साहित करने और जरूरतमंद लोगों की मदद करने के लिए आगे बढ़ने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं।*

    Related articles

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Stay Connected

    0FansLike
    0FollowersFollow
    3,912FollowersFollow
    0SubscribersSubscribe
    spot_img

    Latest posts